कई देशों में इस डॉग के पालने पर है बैन, गुस्से में शेर पर भी कर सकता है अटैक

0
945

कई देशों में इस डॉग के पालने पर है बैन, गुस्से में शेर पर भी कर सकता है अटैक कई देशों में इस डॉग के पालने पर है बैन, गुस्से में शेर पर भी कर सकता है अटैककई देशों में इस डॉग के पालने पर है बैन, गुस्से में शेर पर भी कर सकता है अटैककई देशों में इस डॉग के पालने पर है बैन, गुस्से में शेर पर भी कर सकता है अटैक+8 पानीपत। पानीपत के एक फार्म हाउस पर रॉटविलर नस्ल का कुत्ता केयर टेकर को मारकर खा गया। केयर टेकर मनीराम जैसे ही उस कुत्ते को खोलने गया, उसने हमला कर दिया। वह करीब एक घंटे तक जूझता रहा लेकिन चेन में उलझकर गिर गया और उसकी मौत हो गई। दुनिया की सबसे खतरनाक ब्रीड के डॉग्स में शॉमिल रॉटविलर बेहद गुस्सैल होता है। अपने एग्रेशन के कारण कई देशों में बैन है रॉटविलर… – रॉटविलर अपने एग्रेशन के लिए काफी बदनाम है। इसके चलते यूरोप और अमेरिका के कई हिस्सों में रॉटविलर को घर पर पालना बैन है, हालांकि भारत में इस ब्रीड को पालने को लेकर किसी तरह का कोई बैन नहीं है। – जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था ‘एनिमल पीपुल’ की एक रिसर्च के मुताबिक पिटबुल दुनिया की सबसे खतरनाक डॉग ब्रीड है। रॉटविलर दूसरे नंबर पर है। – इस रिसर्च में 1882 से 2012 के बीच अलग-अलग ब्रीड के कुत्तों द्वारा किए हमले में हुई मौतों और हमलों के आंकड़े को लिया गया है। – वेटनरी डॉक्टर डॉ. चिराग कहते हैं, ”रॉटविलर जब गुस्से में हो तो किसी पर भी हमला कर सकता है फिर चाहे वह शेर ही क्यों न हो।” रोम के ड्रोवर कुत्ते की नस्ल है रॉटविलर – ऐसा माना जाता है कि रॉटविलर प्राचीन रोम के ड्रोवर कुत्ते की नस्ल है, जो बीहड़ में रहने वाली बेहद समझदार नस्ल थी। इन्हें रोमन अपने साथ रखते थे। – यूरोप को जीतने के लिए रोमन सेनाएं बड़ी यात्राएं करती थी। सैनिकों के भोजन के लिए मवेशियों का झुंड अपने साथ रखना होता था। रॉटविलर को इन मवेशियों को काबू रखने और रात में निगरानी के लिए रखा जाता था। इसी तरह यह नस्ल जर्मनी पहुंची थी। Information By: Parminder Singh #DCPBVM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here