ADB ने घटाया भारत की विकास दर का अनुमान, नोटबंदी-जीएसटी का असर को बताया वजह

0
95

एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) ने इस वित्त वर्ष के लिए भारत की विकास दर में कटौती कर दी है. एडीबी ने भारत की जीडीपी की रफ्तार 7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है. यह बैंक के पूर्व में किए गए अनुमान से 0.4 फीसदी कम है. बैंक ने अगले वित्त वर्ष के लिए भी जीडीपी की विकास दर घटाई है. इसके लिए नोटबंदी और जीएसटी को जिम्मेदार माना जा रहा है. एशियन डेवलपमेंट आउटलुक 2017 जारी एडीबी ने एशियन डेवलपमेंट आउटलुक 2017 अपडेट में यह नया अनुमान जारी किया है. अप्रैल महीने में एडीबी ने भारत की विकास दर 7.4 आंकी थी, लेकिन अब उसने इसे घटाकर 7 फीसदी कर दिया है. वहीं, अगले वित्त वर्ष 2018-19 के लिए भी बैंक ने अपने अनुमान में बदलाव किया है और इसे 7.4 फीसदी कर दिया है. पहले इस साल के लिए विकास दर 7.6 फीसदी आंकी गई थी. कारोबार निवेश पर पड़ा है असर बैंक ने कहा है कि नोटबंदी और जीएसटी ने ग्राहकों के खर्च को प्रभावित किया है और कारोबार निवेश पर भी इसका असर पड़ा है. इसके बावजूद भारत की स्थिति काफी मजबूत बनी हुई है. कुछ समय के लिए ही रहेगा असर एडीबी ने कहा कि इनका असर लघु समय के लिए है और मीडियम टर्म में इनका प्रभाव कम होगा और जीडीपी को रफ्तार मिलेगी. व्यापक स्तर पर बैंक ने एशिया के ग्रोथ अनुमान को बेहतर स्थिति में रखा है. बेहतर वैश्विक व्यापार और इंडस्ट्रियल इकोनाॅमी की वजह से यहां की विकास दर बेहतर रहने की उम्मीद है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here