फारुक़ अब्दुल्ला का कटियार को जवाब- क्या ये देश उनके बाप का है?

0
13

मुस्लिमों को पाकिस्तान जाने की सलाह देने वाले बीजेपी नेता विनय कटियार पर चौतरफा हमले हो रहे हैं. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय मंत्री फारुक अब्दुल्ला ने निशाना साधा है. गुरुवार को अब्दुल्ला ने कहा- जहां तक बीजेपी नेता विनय कटियार का सवाल है तो वह हर रोज कहते हैं, मुसलमानों को चले जाना चाहिए. क्या यह कटियार के बाप का देश है? यह देश हम सबका है. हर धर्म मोहब्बत की बात सिखाता है. इज्जत की बात सिखाता है. अब्दुल्ला बोले- पीएम मोदी का भाषण चुनावी था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान विपक्ष पर निशाना साधा था. जवाब में विपक्षी दलों के नेताओं ने पीएम के भाषण पर नारेबाजी और हंगामा करके अपनी प्रतिक्रया दी. गुरुवार को कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने फारुक अब्दुल्ला ने भी पीएम मोदी पर हमला बोला. कश्मीर में फंडिंग पर बोले फारुक अब्दुल्ला, पाकिस्तान के अलावा दूसरी जगह से भी आता है पैसा फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री का जो भाषण था, वह पूरा चुनाव प्रचार की तरह का था. उनका अटैक दो पर था. एक गांधी फैमिली पर और दूसरा कांग्रेस पर. प्रधानमंत्री को वाजपेयी की तरह नरम बनने की कोशिश करनी चाहिए. देश के बंटवारे पर पीएम के बयान पर क्या कहा? देश के बंटवारे पर उन्होंने कहा कि केवल कांग्रेस ही बंटवारे के लिए जिम्मेदार नहीं है. देश का बंटवारा हुआ, क्योंकि एक तरफ जिन्ना थे, दूसरी तरफ नेशन थ्योरी की बातें. उस वक्त जो हिंदुस्तान के लीडर थे, उनमें बहादुरी थी. भारत एक सेक्युलर देश है, हिंदू, मुस्लिम सिख, इसाई सब का देश है. फारुक अब्दुल्ला बोले- कश्मीर पर US-चीन की लें मदद, BJP बोली- सलाह की जरूरत नहीं कश्मीर और पटेल को लेकर क्या कहा? फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो पटेल के बारे में कहा, वह एक चीज भूल गए हैं कि पटेल ने कहा था कि कश्मीर को हिंदुस्तान के साथ मत रखो. हैदराबाद को रखो. यह बात आज भी मौजूद है. फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि पाकिस्तान चाहता है कि कश्मीर उसको मिल जाएगा. लेकिन नहीं मिलेगा. कश्मीर ने फैसला कर लिया है कि हम हिंदुस्तान के साथ रहेंगे. हम हिंदुस्तान में शांति के साथ रहना चाहते हैं. प्यार के साथ रहना चाहते हैं. कश्मीर मुद्दे पर फारुक के समर्थन में यशवंत सिन्हा, बोले- क्या देशद्रोही थे अटल? उन्होंने यह भी कहा कि हमें मित्रता से पाकिस्तान के साथ बातचीत करनी चाहिए. इस बात को खत्म करना चाहिए कि यह उनका है. यह हमारा है. भाई लोगों प्रेम से रहो, यही सब कुछ है. इसी में हम आगे तरक्की करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here