दिल्लीः 10वीं की प्री-बोर्ड परीक्षा में फेल हुए 70 फीसदी छात्र

0
35

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की सालाना परीक्षा से पहले दिल्ली के सरकारी स्कूलों में आयोजित प्री-बोर्ड परीक्षा के बेहद ही निराश करने वाले परिणाम सामने आए हैं, जिसमें 10वीं कक्षा की प्री-बोर्ड परीक्षाओं में दिल्ली के सरकारी स्कूलों के 70 फीसदी बच्चे फेल हो गए हैं. CCTV निगरानी में UP बोर्ड की परीक्षा, 2 दिन में 5 लाख छात्र नदारद खबरों की अनुसार कई सरकारी स्कूलों में प्री बोर्ड परीक्षाओं में 10 फीसदी बच्चे भी पास नहीं हो पाए हैं. इसके बाद शिक्षा निदेशालय समेत दिल्ली सरकार की चिंता शिक्षा को लेकर बढ़ गई है. ये 7 टिप्‍स अपनाएंगे तो हर पेपर में अच्‍छे मार्क्‍स आएंगे… बता दें कि देश में एजुकेशन सिस्टम को लेकर आए दिन नई पॉलिसी सरकार पेश कर रही हैं. ताकि बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिल सके, लेकिन परीक्षा में छात्रों का यूं फेल हो जाना शिक्षा के क्षेत्र में गंभीर चिंता का विषय है. वहीं प्री-बोर्ड परीक्षा के नतीजों से नाराज दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने शिक्षा सचिव को चिट्ठी लिखी हैं. Advertisement: Replay Ad Ads by ZINC Board Exam 2018: बिना रट्टा मारे, ऐसे आएंगे जियोग्राफी में अच्छे नंबर दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में 10वीं क्लास के बच्चों की प्री-बोर्ड परीक्षाएं दोबारा हो रही हैं. पहली प्री-बोर्ड परीक्षा जनवरी के पहले सप्ताह में आयोजित की गई थी. लेकिन जनवरी में 10वीं कक्षा के प्री बोर्ड परीक्षाओं में बच्चों के फेल होने से केजरीवाल सरकार का शिक्षा मंत्रालय और विभाग सकते में आ गया था. वहीं मनीष सिसोदिया ने शिक्षा सचिव से संबंधित विषय के शिक्षकों और स्कूल हेड के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं. बता दें कि इस साल नो डिटेंशन पॉलिसी खत्म होने के चलते सरकारी स्कूलों की असली तस्वीर सामने आई है. पिछले साल तक 10वीं की परीक्षाएं स्कूल खुद लिया करते थे. इस साल CBSE खुद परीक्षा ले रहा है, जिसकी वजह से प्री बोर्ड परीक्षाओं में सच सामने आया है. वहीं बात अगर पिछले साल की की जाए तो दिल्ली सरकार के करीब 92 फीसदी छात्र 10वीं में पास हुए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here