कर्नाटक बीजेपी ने राहुल गांधी को दिखाया ‘आईना’, सिद्धारमैया ऐप पर कांग्रेस को घेरा

0
79

फेसबुक डाटा लीक के बाद नरेंद्र मोदी ऐप के नाम पर सवाल उठाने वाले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर अब बीजेपी कर्नाटक ने पलटवार किया है. बीजेपी कर्नाटक के ट्विटर हैंडल से राहुल गांधी को संबोधित करते हुए कहा गया है कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का उन्हीं के नाम पर ‘सिद्धारमैया ऐप’ है जो कि सरकारी पैसे पर चलाया जा रहा है. वहीं नमो ऐप को बीजेपी अपने खर्चे पर चला रही है. इसलिए इस ऐप का नाम PMO की बजाए नमो रखा गया है. पीएम मोदी पर पर्सनल डाटाबेस बनाने का आरोप राहुल गांधी ने आज एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने आरोप लगाया है कि नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद का दुरुपयोग करते हुए नमो ऐप के जरिए करोड़ों भारतीयों का पर्सनल डाटाबेस बना रहे हैं. राहुल ने कहा कि नमो ऐप सरकारी पैसे से चलाया जा रहा है. अगर प्रधानमंत्री पूरे देश से जुड़ने के लिए तकनीक का इस्तेमाल करते हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं, लेकिन ऐप का नाम PMO ऐप होना चाहिए. यह डाटाबेस पूरे भारत का है, ना कि नरेंद्र मोदी का है इससे पहले राहुल ने आरोप लगाया कि नमो ऐप के जरिए बेहद गोपनीय तरीके से ऑडियो, वीडियो, दोस्तों-परिवार के फोन नंबर यहां तक कि जीपीएस के जरिए लोगों की लोकेशन तक ट्रेस की जा रही है. राहुल ने नरेंद्र मोदी को भारतीयों की जासूसी करने के लिए बिग बॉस तक कहा था. राहुल ने कहा कि अब मोदी हमारे बच्चों का भी डाटा लेना चाहते हैं. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि 13 लाख एनसीसी कैडेट्स को जबरन यह ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा गया है. इसके जवाब में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा था कि राहुल गांधी जी, यहां तक कि छोटा भीम भी जानता है कि ऐप पर पूछी गई सामान्य जानकारी की जासूसी नहीं होती. फेसबुक डेटा लीक मामले को लेकर उपजे विवाद के बीच कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने हैं. लेकिन जैसे ही कांग्रेस के ऐप (with INC) पर सवाल उठा तो, पार्टी ने आनन-फानन में इस ऐप को प्ले स्टोर से हटा दिया. एक तरह से इस मामले में अब कांग्रेस बैकफुट पर आ गई है. कांग्रेस ने गूगल प्ले स्टोर से हटाया ऐप राहुल के ‘नमो ऐप’ पर सवाल उठाने के बाद जैसे ही कांग्रेस पर (with INC) को लेकर सवाल दागा गया तो, पार्टी ने इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से हटा दिया और साथ ही कांग्रेस सदस्यता वाली वेबसाइट (membership.inc.in) को भी बंद कर दिया गया. अचानक हटाने के लेकर जब सवाल उठने लगे तो कांग्रेस की ओर से सफाई दी गई कि पिछले 5 महीने से ये ऐप इस्तेमाल में नहीं था. भाजपा और कांग्रेस की सोशल टीम भी आमने-सामने इससे पहले राहुल गांधी के जवाब में सोमवार सुबह बीजेपी के आईटी सेल इंचार्ज अमित मालवीय ने कांग्रेस पार्टी के ऐप की जानकारी सिंगापुर भेजे जाने का आरोप लगाया. मालवीय ने बाकायदा कांग्रेस की वेबसाइट का लिंक शेयर किया और उसके आईपी एड्रेस के सिंगापुर में होने का दावा किया. इसके बाद कांग्रेस की सोशल मीडिया इंचार्ज दिव्या स्पंदना राम्या ने मोर्चा संभाला और बीजेपी के आरोपों को गलत करार दिया. उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता के लिए किसी ऐप के इस्तेमाल से ही इनकार किया. स्पंदना ने बताया कि कांग्रेस पार्टी अपनी वेबसाइट के जरिए सदस्यता अभियान चलाती है. हालांकि, इस बीच अमित मालवीय ने स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए आरोप लगाया कि कांग्रेस ने अपना ऐप डिलीट कर दिया है. साथी ही सदस्यता वेबसाइट membership.inc.in को भी ब्लॉक कर दिया. ‘कांग्रेस मुक्त AppStore’ का नारा लिखा ट्विटर पर इस लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने के बाद अमित मालवीय ने दोपहर करीब 1.30 बजे एक और ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कांग्रेस पर ‘वोट फिक्सिंग’ के लिए डाटा चोरी करने का आरोप लगाया. मालवीय ने तंज कसते हुए ‘कांग्रेस मुक्त AppStore’ का नारा भी लिख दिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here