घंटे भर चली नायडू-केजरीवाल की मुलाकात, किसी भी फ्रंट से जुड़ने की योजना नहीं

0
18

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने बुधवार को आंध्र भवन में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की. दोनों नेताओं के बीच करीब एक घंटे तक बातचीत चली. इसके बाद केजरीवाल आंध्र भवन से निकल गए. मार्च महीने में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद चंद्रबाबू नायडू से केजरीवाल की मुलाकात काफी अहम है. 2019 की चुनावी जंग से पहले गैर कांग्रेस-गैर बीजेपी फ्रंट के लिए नायडू का ये कदम कई संकेत देता है. आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे पर केंद्र से अपने वादे पूरे करने की मांग को लेकर तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के नेता लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. इसके साथ आंध्र प्रदेश रिऑर्गेनाइजेशन एक्ट पर भी टीडीपी लगातार प्रदर्शन कर रही है. आज दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं नायडू इसी के तहत टीडीपी अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू दो दिवसीय दौरे पर दिल्ली में हैं. उन्होंने विपक्षी पार्टियों के कई नेताओं से मुलाकात की है और आंध्र प्रदेश के साथ हुए अन्याय को साझा किया है. नायडू इस संबंध में बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी बात रख सकते हैं. ‘किसी गुट से जुड़ने के इच्छुक नहीं नायडू’ नायडू ने मंगलवार को क्षेत्रीय दलों के नेताओं के साथ कई बैठकें कीं, लेकिन वह फिलहाल किसी भी संयुक्त विपक्ष से जुड़ने के पक्ष में नहीं हैं. तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के एक वरिष्ठ नेता ने मंगलवार को यह जानकारी दी. टीडीपी नेता ने बताया कि टीडीपी प्रमुख-2019 के लोकसभा चुनाव के बाद ही किसी मोर्चे पर निर्णय लेंगे. पार्टी प्रमुख के साथ रहे इन वरिष्ठ टीडीपी नेता ने कहा, ‘‘नायडू फिलहाल कुछ फैसला करने के मूड में नहीं हैं. वह लोकसभा चुनाव के नतीजे का इंतजार करेंगे और तब अपने कदम पर निर्णय लेंगे. फिलहाल वह बस आंध्र प्रदेश पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं.’’ मुख्यमंत्री ने संसद में राजग के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के टीडीपी के कदम के प्रति समर्थन जुटाने की कोशिश के तहत विभिन्न दलों के नेताओं से मुलाकात की है. उन्होंने तृणमूल कांग्रेस, राकांपा, द्रमुक, अन्नाद्रमुक, सपा और बसपा के नेताओं से बातचीत की. वह कांग्रेस और एनडीए के सहयोगियों के नेताओं से भी मिले. उन्होंने अपने राजनीतिक विरोधी तेलंगाना राष्ट्र समिति से संबद्ध के. कविता से भी मुलाकात की. एक विपक्षी नेता ने कहा, ‘‘ऐसा जान पड़ता है कि फिलवक्त उनकी दिलचस्पी गैर बीजेपी-गैर कांग्रेस गुट में है. वह किसी भी मोर्चे से जुड़ने की हड़बड़ी में नहीं हैं.’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here