दलित संगठनों द्वारा सोमवार को बुलाए गए भारत बंद के दौरान भड़की हिंसा के दौरान राजस्थान के जोधपुर में घायल हुए सब इंस्पेक्टर महेंद्र चौधरी का आज निधन हो गया. वहीं दलित हिंसा से सर्वाधिक प्रभावित मध्य प्रदेश के ग्वालियर और मुरैना में गोली चलाते हुए कैमरे में कैद हुए राजा चौहान नाम के शख्स के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है. जोधपुर में दलित हिंसा के दौरान घायल हुए सब इंस्पेक्टर महेंद्र चौधरी को इलाज के लिए अहमदाबाद ले जाया जा रहा था, लेकिन मेहसाणा में ही उनका निधन हो गया. महेंद्र चौधरी जोधपुर के उदय मंदिर थाने में तैनात थे. सोमवार को हिंसक प्रदर्शन के दौरान हमलावरों ने महेंद्र चौधरी पर ही हमला कर दिया, जिसमें वह गंभीर रूप से घायल हो गए. घायल महेंद्र चौधरी को नजदीक के ही श्रीराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. लेकिन सोमवार की शाम जब तबीयत और बिगड़ने लगी तो उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया. मंगलवार को महेंद्र चौधरी की हालत और नाजुक हो गई तो उन्हें सड़क के रास्ते अहमदाबाद ले जाया जा रहा था. लेकिन अहमदाबाद ले जाते हुए रास्ते में ही उनकी मेहसाणा में मौत हो गई. हालांकि निधन के बावजूद परिवार वालों के कहने पर एंबुलेंस से उन्हें अहमदाबाद ले जाया जा रहा है, जहां पर डॉक्टर उन्हें चेक करेंगे. लेकिन एंबुलेंस में मौजूद डॉक्टरों ने महेंद्र चौधरी को मृत घोषित कर दिया. उधर मध्य प्रदेश पुलिस ने बताया कि भारत बंद के दौरान गोली चलाने के लिए राजा चौहान के खिलाफ IPC की धारा 308 के तहत केस दर्ज किया गया है. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा SC/ST ऐक्ट में बदलाव के विरोध में दलित संगठनों ने सोमवार को देशव्यापी बंद का आह्वान किया था. लेकिन दलित संगठनों द्वारा बुलाए गए भारत बंद ने हिंसक रूप ले लिया और उपद्रवियों ने देशभर में जमकर तोड़फोड़ और आगजनी की. ग्वालियर और मुरैना में दो जगहों पर राजा चौहान खुलेआम गोली चलाता कैमरे में कैद हो गया था. गौरतलब है कि बंद के दौरन मध्य प्रदेश से दलितों और गैर-दलितों के बीच संघर्ष की भी खबरें आईं. सोमवार को भारत बंद के दौरान भड़की हिंसा का सर्वाधिक असर मध्य प्रदेश में देखने को मिला, जहां अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है. मध्य प्रदेश में जमकर हुई हिंसा की तस्वीरों के बीच राजा चौहान गालियां देते हुए दूसरी तरफ के लोगों पर गोली चलाता दिख रहा है. राजा चौहान जब गोलियां चलाता है तो दूसरे पक्ष के लोग भाग खड़े होते हैं. मध्य प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक मकरंद देओस्कर ने मीडिया से कहा कि प्रदेश में कानून और व्यवस्था का राज स्थापित करना पुलिस की सर्वोच्च प्राथमिकता है. हालांकि राजा चौहान को अब तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है, वह फरार चल रहा है. पुलिस ने अधिकारी ने कहा कि अभी घटना की जांच की जा रही है और अभी नहीं कहा जा सकता कि गोली चलाने वाला शख्स कौन है. एक बार प्रदेश में कानून-व्यवस्था स्थापित हो जाए, फिर हम उस शख्स के खिलाफ कार्यवाही करेंगे. वहीं आरोपी राजा चौहान के परिवार वालों का कहना है कि सोमवार को राजा चौहान ग्वालियर में था ही नहीं, हालांकि उन्होंने यह जरूर स्वीकार कर लिया कि आत्मरक्षा में उनकी बिरादरी के लोगों ने गोलियां चलाईं.

0
22

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here