कर्नाटक सियासी घमासान मे कूदे जेठमलानी पाहुचे सुप्रीम कोर्ट

0
12

वरिष्ठ अधिवक्ता और न्यायशास्त्री राम जेठमलानी ने कर्नाटक में भाजपा को सरकार बनाने का आमंत्रण देने के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ आज उच्चतम न्यायालय का रुख किया. उन्होंने राज्यपाल के फैसले को ‘‘ संवैधानिक शक्ति का घोर दुरुपयोग ’’ बताया.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली पीठ ने तत्काल सुनवाई के लिए दायर की गई जेठमलानी की याचिका पर विचार किया और कहा कि आज तड़के मामले की सुनवाई करने वाली तीन सदस्यीय विशेष पीठ कल इस पर सुनवाई करेगी.

न्यायमूर्ति ए एम खानविल्कर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता से कहा कि वह न्यायमूर्ति ए के सीकरी की अगुवाई वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष 18 मई को अपनी याचिका दायर करें, जब कांग्रेस पार्टी और जनता दल ( सेक्यूलर ) की याचिकाओं पर सुनवाई होगी.

कर्नाटक की सियासी उठापटक पर जेठमलानी ने कहा कि ये संविधान का अपमान है और मुझे कोई शक नहीं है कि राज्यपाल ने नरेंद्र मोदी की सलाह पर काम किया है.

उन्होंने कहा कि मैं बीती बात नहीं करना चाहता, लेकिन मेरी जिंदगी का एक मकसद पूरा नहीं हुआ है और वो मोदी से मुक्ति पाने का.

वरिष्ठ वकील ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से मेरा विश्वास उठ गया है. ये हॉर्स ट्रेडिंग नहीं है, ये डंकी ट्रेडिंग है. भ्रष्टाचार को खुलेआम बढ़ावा दिया जा रहा है, उन्हें सिर्फ लोकतंत्र को नुकसान पहुंचाकर ही वोट हासिल कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here